प्राकृतिक रूप से त्वचा की चमक को बढ़ाने के उपाय |

प्राकृतिक रूप से त्वचा की चमक को बढ़ाने के उपाय |

0 170

सुंदरता हमारी त्वचा की गहराई के भी परे है। हमारी त्वचा एक ऐसा माध्यम हैं जहाँ सुन्दरता के भाव दृष्टिगत हो जाते हैं।

हम सभी पदार्थो एवं आत्मा दोनों से बने हुए हैं। इसका तात्पर्य यह हैं कि हमारी त्वचा सिर्फ बाहर से दिखने वाली परत ही नहीं बल्कि जीवन (प्राण शक्ति) और क्रियाशीलता से परिपूर्ण है। यह शरीर के अन्य अंगों के सामान एक अंग हैं तथा इसको भी पोषण और स्वस्थता की आवश्यकता है। अधिकतर उपलब्ध सौन्दर्य उत्पाद भौतिक सुन्दरता निखारते हैं परंतु वह यह रहस्य नही उजागर करते कि त्वचा की प्रत्येक कोशिका में कैसे चमक उत्पन्न की जाए और उसको ऊर्जा से कैसे परिपूर्ण किया जाए और प्रभास से भर जाए। चलिए जानते है त्वचा की देखभाल करके सुंदर दिखने के तरीके क्या है।

त्वचा की समस्या के मुख्य कारण

  1. उम्र
  2. तनाव
  3. अस्वस्थपूर्ण जीवन जीना जैसे धूम्रपान, मदिरा सेवन (अल्कोहोल), नशीली दवाओं का सेवन और भोजन ग्रहण की त्रुटिपूर्ण आदतें
  4. अपूर्ण पाचन
  5. शरीर में हार्मोनल परिवर्तन

यद्यपि बहुत से प्राकृतिक सुन्दरता के उपाय हैं जो आपकी त्वचा को चमक देने के साथ साथ इसे साफ़ एवं नया जीवन प्रदान करते है

चेहरे पर चमक बढ़ाने के लिए 

उपाय

  • चेहरे पर चमक लाने के घरेलू उपाय
  • व्यायाम करे
  • नियमित योगाभ्यास
  • प्राकृतिक भोजन
  • तेल से मालिश
  • मुस्कान
  • मन को शांत रखे
  • ध्यान करे
  • स्वयं को जाने
  • सुदर्शन क्रिया
  • सदा युवा बने रहे
  • मौन रहना

प्राचीन आयुर्वेद में सुन्दरता का रहस्य छिपा हुआ हैं। आयुर्वेदिक उपटन कोमलता से त्वचा को पोषण देते हैं और इसे साँस लेने में मदद करते हैं।आपके रसोई घर में उपलब्ध सामग्री से अच्छा और क्या हो सकता हैं।

आपका संपूर्ण सुंदरता पैक:

  1. बेसन दो चम्मच
  2. चन्दन पाउडर
  3. हल्दी पाउडर आधा चम्मच
  4. कपूर चुटकी भर
  5. सादा पानी/ दूध/ गुलाब जल

बेसन, चन्दन पाउडर, कपूर और हल्दी पाउडर को सादे जल या दूध या गुलाब जल में इस प्रकार मिलाते हैं कि गाढा घोल बन जाये।इसे चेहरे पर लगाए। 20 मिनट तक लगा रहने दे फिर जल से धोले। यदि आप रूई को ठंडे गुलाब जल में भिगो कर आँखों पर रख देते हैं तो आपको इससे ताजगी का अहसास होगा। साथ साथ कुछ मन को प्रसन्नता देने वाला वाद्य यंत्र संगीत सुनिए। 20 मिनट के बाद आपको ताजगी से भरी हुई निखरी त्वचा मिलेगी।

कुछ दौड़ना, जॉगिंग करना या सूर्य नमस्कार के चरण तेज गति से करने से शरीर का रुधिर परिसंचरण तंत्र सुधरता हैं। पसीना निकलना आपके लिए अच्छा हैं। जब त्वचा स्वेद स्रावण से साफ़ हो गई हो, तो कुछ समय बाद ठन्डे जल से धो सकते हैं।

जब आप नीचे की ओर झुक के डॉग पोज़ में होते हैं, तब क्या अपने अपनी साँस पर ध्यान दिया हैं? योगाभ्यास की सुन्दरता शरीर तथा साँस पर ध्यान देने में ही है। जितनी बार आप साँस छोड़ते हैं तो आपके शरीर से हानिकारक पदार्थ बहार निकलते हैं। योग व प्राणायाम, शरीर को साफ़ करने की प्रक्रिया को गति प्रदान करते हैं और आपकी त्वचा को तरोताज़ा व प्रभास से परिपूर्ण कर देते हैं|

 

 

हम जो खाते हैं उसी से हमारे शरीर का निर्माण होता हैं। अतः ताज़ा, साफ एवं रसीला भोजन त्वचा और शरीर को स्वस्थ बनाता हैं। एक संतुलित भोजन का सेवन करना चाहिए जिसमे प्रोटिन और विटामिन प्रचुर मात्रा में हो। फल तथा हरी पत्तियों वाली सब्जियां अधिक मात्रा में हो। सही मात्रा में सही समय पर खाना चाहिए। चहेरे की देखभाल हेतु इस भोजन को ग्रहण करके आप त्वचा एवं चेहरे पर चमक बढ़ा सकते हैं।

 

चेहरे पर तेल से सप्ताह में एक बार मालिश आश्चर्यजनक परिणाम दे सकती है। अपनी त्वचा की प्रकृति के अनुसार तेल का चुनाव करना चाहिए, जैसे पिसिरडला या नारायण तेल। सरसो ,नारियल,बादाम या कुमकदी का तेल त्वचा की चमक बढ़ाने के अच्छे पोषक तत्त्व हैं

 

 

जब आप बहुत सुन्दर कपड़े पहनते हैं तो पूर्णता के लिए आपको कुछ और चाहिए और वो है आपकी मुस्कान। चाहे आपने अपना समय, ऊर्जा और पैसा अपने शरीर और सुंदरता के लिए खर्च किया हैं परंतु अधिकांश हम अपनी आतंरिक ख़ुशी व मुस्कान को दर्शाना भूल जाते हैं।

 

 

 

यदि आप दुःखी, क्रोधित,निराशापूर्ण या उदासी से भरे हैं तो आपका चेहरा महान नहीं दिख सकता। अतः इस बारे में निश्चित होकि आपके मन की शांति और ख़ुशी आपको लक्ष्य से हिला नहीं सकती। इसका एकमात्र उपाय ध्यानहैं। यह एक साधारण आवश्यकता हैं। जो भौतिकता से परे हैं।

एक मोमबत्ती प्रतिदिन प्रकाश विकिरित करती हैं। ध्यान हमारे अंदर की मोमबत्ती को अनूठे प्रकार से प्रभावित करता हैं। जितना अधिक आप ध्यान करते हैं,उतना अधिक आप निखरते हैं। कलाकार भी ध्यान द्वारा अपने औरा को बढातेहैं। यह एक कल्पना नहीं हैं, यह बिलकुल सत्य हैं। ध्यान से आप अंदर और बाहर दोनो से चमकते हैं। यह चमक मेकअप द्वारा नहीं पाई जा सकती।

क्या आप सोचते हैं कि सही तरीके से श्वसन से आप दाग और मुहाँसे से छुटकारा पा सकते हैं? हाँ, यह सही है,जब हम चिंतामुक्त होते हैं तो हमारे तनाव के कारण उत्पन्न मुहासे और दाग कम हो जाते हैं। सुदर्शन क्रिया प्राणायामकी ऐसी विधि हैं जो शरीर और मन दोनों के तनाव को दूर करती हैं तथा हमारे शरीर और मन में संतुलन बनाती हैं।

 

 

 

सामान्य रूप से सुन्दर होने का अर्थ युवा होना और हर वस्तु में नयापन देखना हैं| अगर आप स्वयं को युवा अनुभव करते है तो आप युवा दिखते हैं। ध्यान प्राकर्तिक रूप से उम्र की गति को घटाता हैं तथा युवावस्था और ताजगी बनाये रखता है। अतः आगे बढ़े और स्वयं को ह्रदय से 18 साल का अनुभव करे।

 

 

 

आप तब कैसा अनुभव करते हो,जब आप बहुत अधिक समय के लिए बातें करते हैं? अक्सर थके हुए?फालतू की बात बोलना और हँसना हमारे शरीर को नकारात्मक रूप से प्रभावित करता हैं। मौन ऊर्जा को बचाता हैं। यदिआप इसका अनुभव करना चाहते हो तो आपको आर्ट ऑफ लिविंग पार्ट 2 प्रोग्राम करना चाहिये। मौन का प्रबजाव गहरे ध्यान के साथ आपको आनंद से भर देता है। यह भी मत भूलो की इससे तुम्हारी त्वचा में विशेष चमक उत्पन्न होती हैं।

 

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Bitnami